भारत की सेना देश की सीमाओं को बाहरी खतरे से रक्षा करने में पूर्ण रूप से सक्षमः ब्रिगेडियर एस डडवाल, एनसीसी ग्रुप मुख्यालय नैनीताल के संयोजन में कारगिल विजय दिवस पर वेबीनार संपन्न

नैनीताल। लाइव उत्तरांचल न्यूज


उत्तराखंड एनसीसी महानिदेशक कार्यवाहक ब्रिगेडियर एस डडवाल ने कहा कि भारत की रक्षा सेना अपनी सीमाओं की किसी बाहरी खतरे से रक्षा करने में पूर्ण रूप से सक्षम है। उन्होंने कहा कि कारगिल की विजय हम सभी भारतीयों को उत्साह प्रदान करती है। ब्रिगेडियर एस डडवाल रविवार को एनसीसी ग्रुप मुख्यालय नैनीताल के संयोजन में कारगिल विजय दिवस 26 जुलाई के अवसर पर एक  दिवसीय वेबीनार को संबोधित कर रहे थे। ब्रिडेडियर डडवाल ने  कहा कि भारत एक शांतिप्रिय लोकतांत्रिक देश है लेकिन इसकी रक्षा सेनाएं अपनी सीमाओं की किसी बाहरी खतरे से रक्षा करने में पूर्ण रूप से सक्षम है। उन्होंने कहा कि कारगिल की विजय हम सभी भारतीयों को उत्साह प्रदान करती है कि वह अपने अपने क्षेत्र में रह करके राष्ट्र के प्रति सर्वोत्तम योगदान दें। उन्होंने कहा कि हमारे अंदर यह भावना होनी चाहिए कि हम अवसर आने पर राष्ट्र के प्रति अपना महत्तम योगदान दे। ब्रिगेडियर डडवाल ने कहा कि कारगिल विजय दिवस के अवसर पर हम उन सभी वीर जवानों के प्रति सम्मान व्यक्त करते हैं जो की सीमाओं पर चौबीस घंटे सातों दिन वर्ष के 365 दिन देश की सीमाओं की रक्षा कर रहे हैं। यह आयोजन  सैनिकों के प्रति सम्मान व्यक्त करने का हमारा छोटा का प्रयास है  । उन्होंने कैडेट्स का आवाहन करते हुए कहा कि हम शपथ ले कि यदि सैनिक हमारे सामने ना भी हो तो भी हम दिल और दिमाग से उनके प्रति  सम्मान व्यक्त करते हुए उनके जज्बे  और हौसले की की प्रशंसा करें। बेबीनार में कुमाऊं विवि के कुलपति प्रो. एनके जोशी ने भी कैडेट्स को संबोधित किया। उन्होंंने कहा कि आज का दिन भारतीय रक्षा सेनाओं के उन शहीदों को याद कर अपने श्रद्धा सुमन अर्पण करने का है, जिन्होंने मातृभूमि की रक्षा करते हुए देश के लिए सर्वोच्च बलिदान दिया। यह दिन समर्पित हैं उन्हें, जिन्होंने अपना जीवन हमारे देश की सीमाओं की रक्षा करने के लिए अर्पित कर दिया। प्रो. जोशी ने कहा कि इस युद्ध में भारतीय सेना के सपूतों ने बलिदान देते हुए देश के लिए प्राण उत्सर्ग कर दिए और इन्हें में से एक वीर थे, नैनीताल के सपूत शहीद मेजर राजेश सिंह अधिकारी जो कि डीएसबी परिसर कुमाऊं विश्वविद्यालय के छात्र और नेवल यूनिट एनसीसी के कैडेट भी थे। शहीद मेजर राजेश सिंह अधिकारी सर्वोच्च बलिदान देकर देश के इतिहास में अपना नाम अमिट कर lलिया। उन्होंने आशा व्यक्त की यह वेबीनार समस्त एनसीसी कैडेट्स को देश प्रेम, राष्ट्र के प्रति योगदान देने और भारतीय सेना में सम्मिलित होने के लिए प्रेरित करेगा। कुलपति ने विवि परिवार की ओर से देश की रक्षा में सर्वोच्च बलिदान देने वाले भारतीय रक्षा सेनाओं के सैनिकों के प्रति श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए वर्तमान में भारतीय सीमाओं की विषम परिस्थितियों में भी तत्परता से रक्षा करने वाले सैनिकों के प्रति सम्मान व्यक्त करते हुए शुभकामनाएं प्रेषित की। नैनीताल ग्रुप एनसीसी मुख्यालय के ग्रुप कमांडर कमोडोर एसएस बल कैडेटों ने  कहा कि  वेबिनार के माध्यम से हमने इस कार्यक्रम के आयोजन का प्रयास किया है ताकि हमारे हृदय में देश की सेवा के लिए  जो अग्नि प्रज्वलित है, वह हमेशा जीवित रहे और हम इस अग्नि को देश के अन्य नागरिकों को भी स्थानांतरित कर सकें। उन्होंने कैडेट्स व अधिकारियों का आवाहन करते हुए कहा कि आज इस अवसर पर हम सभी यह संकल्प लें कि हम में से प्रत्येक राष्ट्र की उन्नति में योगदान देने के लिए प्रयास करेगा और अपनी मातृभूमि के लिए ऐसा ही करने के लिए दूसरों को भी प्रेरित करेगा।
इस सेमिनार में एनसीसी कैडेट्स को का कार्यक्रम समन्वयक सब लेफ्टिनेंट डा. रीतेश साह द्वारा राष्ट्र के प्रति शपथ दिलाई गई। इसके बाद कारगिल युद्ध पर आधारित  वृत्तचित्र,  कारगिल युद्ध के नायकों पर लघु फिल्में तथा वीडियो दिखाए गए। कैडेट्स को भारतीय राष्ट्रीय युद्ध स्मारक के विषय में भी विस्तृत जानकारी दी गई। इस दौरान कैडेट्स द्वारा राष्ट्रभक्ति से ओतप्रोत कविता पाठ किया गया जिसमें नैनीताल देहरादून व रुड़की के कैडेट्स द्वारा बढ़-चढ़कर प्रतिभाग किया गया। इसके अतिरिक्त कैडेट्स के लिए  कारगिल युद्ध पर आधारित एक क्विज प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया। प्रतियोगिता में प्रतिभाग करने वाले विजेताओ की घोषणा नैनीताल ग्रुप मुख्यालय द्वारा  शीघ्र ही की जाएगी।
कार्यक्रम का संयोजन नैनीताल ग्रुप मुख्यालय के प्रशिक्षण अधिकारी कर्नल हितेश काला, कमांडर डीके सिंह, कमांडिंग ऑफिसर 5 यूके नेवल यूनिट एनसीसी तथा 79 बटालियन के कमांडिंग ऑफिसर द्वारा किया गया।
इस कार्यक्रम का संचालन व समन्वयन डीएसबी परिसर कुमाऊँ विश्विद्यालय के एनसीसी अधिकारी सब लेफ्टिनेंट डॉक्टर रीतेश साह द्वारा किया गया। इस कार्यक्रम के आयोजन में मेजर प्रो. एचसीएस बिष्ट, सब लेफ्टिनेंट गोविंद सिंह बोरा, अरविंद सिंह,  नवीन, मानस, पंकज पाठक, जतिन, चंदन, संजय आदि द्वारा योगदान दिया गया।
कुमाऊं विवि के हर्मिटेज परिसर से संचालित इस ऑनलाइन कार्यक्रम में नैनीताल ग्रुप एनसीसी मुख्यालय, रूड़की एनसीसी ग्रुप मुख्यालय तथा देहरादून एनसीसी ग्रुप मुख्यालय के 150 कैडेट्स तथा अधिकारियों ने  प्रतिभाग किया। इसका आयोजन  कारगिल युद्ध में शहीद हुए सैनिकों के बलिदान के स्मरण तथा श्रद्धांजलि देने के लिए  किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: