कृष्ण जन्माष्टमी विशेष: कृष्ण आज फिर आ जाओ… वर्तमान समय को चरितार्थ करती निर्मला जोशी ‘निर्मल’ की कविता


अल्मोड़ा। लाइव उत्तरांचल न्यूज

निर्मला जोशी’निर्मल’ साहित्य के क्षेत्र में अहम मुकाम हासिल कर चुकी हैं। उप्र में खतौली मुज्जफर नगर में हिन्दी प्रवक्ता रह चुकी हैं। उनकी रचनाएं विशेष कर कविताएं देश की कई प्रतिष्ठित पत्र पत्रिकाओं व समाचार पत्रों में प्रकाशित हुई हैं। निर्मल की कविताओं को हम लाइव उत्तरांचल न्यूज के साहित्य प्रेमी पाठकों तक पहुंचा रहे हैं। मूल रूप से अल्मोड़ा नगर की गल्ली निवासी निर्मल वर्तमान में कठघरिया , हल्द्वानी में रह रही हैं। कृष्ण जन्माष्टमी पर वर्तमान सामाजिक स्थिति को चरितार्थ करती उनकी रचना आप की नजर है:

व्हाट्सएप पर लाइव उत्तरांचल न्यूज के नियमित समाचार प्राप्त करने व हमसे संपर्क करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें
https://chat.whatsapp.com/BhBYO0h8KgnKbhMhr80F5i

आज धरा फिर आतंकित है
 बादल काले  मंडराते  हैं
 गीता का  वचन निभाने को
 हे कृष्ण आज फिर आ जाओ।

देखो मधुबन  सारा  सूखा
               बस करील के काँटे है अब।
               हरा-भरा मधुबन करने को,
               हे कृष्ण आज फिर आ जाओ

यमुना सारी सूख गई है
               तट पर उसके सन्नाटे  हैं ।
               मुरली की तान सुनाने को
               हे कृष्ण आज फिर आ जाओ ।

  गोकुल की गलियों में देखो
                 नित-नित  चीर हरण होता है
                 गोपिन की लाज बचाने को
                 हे कृष्ण आज फिर आ जाओ ।

  द्रोपदी आज  भी  रोती  है
                 नयनो के मोती खोती है ।
                 दुःशासन  बढ़ते जाते हैं  ,
                 हे कृष्ण आज फिर आ जाओ।

नित- नित कटती प्यारी गइया
                बालक को दूध दही है सपना ।
                गो’कुल  की लाज बचाने को
                हे कृष्ण आज फिर आ जाओ ।

व्याकुल कितनी आज धरा है
                 मानवता की बदहाली पर
                 फिर से पुरुषार्थ जगाने को
                 हे कृष्ण आज फिर आ जाओ।

. निर्मला जोशी ‘निर्मल’

          
     
           
     
             

               

             

                

                

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: